क्या आपको पता हैं …मेहंदी के भी होते है कई साइड इफेक्ट

 

चाहे कोई भी त्यौहार हो, शादी हो या कोई भी जश्न और समारोह हो महिलाओं और लड़कियों को तो बस हाथों में मेहंदी लगाने का बहाना चाहिए। उन्हें मेहंदी लगाना काफी पसंद होता है। लेकिन मेंहदी लगााने से होने वाले नुकसानों के बारे में शायद कोई भी नहीं जानता होगा। दरअसल बाजार में मिलने वाली मेहंदी में कई तरह के रसायन मिले रहते हैं, जो पहले तो आपकी हाथों में मेहंदी के रंग को काफी गाढ़ा करते हैं, लेकिन उसके बाद यह आपकी स्कीन को उतना ही नुकसान पहुंचाते हैं।

चाहे कोई भी त्यौहार

मेहंदी में मौजूद होते हैं खतरनाक रसायन
बाजारों में लगाई जाने वाली मेहंदी में पीपीडी और डायमीन नामक रसायन मौजूद होते हैं, जो त्वचा के संक्रमण का कारण बन जाते हैं। ताकि मेहंदी का रंग गाढ़ा हो, इसमें खतरनाक रसायन मिलाए जाते हैं। इस खतरनाक रसायन के कारण स्कीन में जलन, खुजली और सूजन हो सकती है। आप को बता दें कि अगर यह खतरनाक रसायनों से तैयार मेहंदी सूर्य की किरणों के संपर्क में आती हैं तो इससे कैंसर होने का खतरा हो सकता है। इसमें पीपीडी ही नहीं बल्कि अमोनिया, आक्सीडेटिन, हाइड्रोजन जैसे कई और खतरनाक रसायन मिले रहते हैं, जो स्कीन के लिए काफी खतरनाक मानी जाती है। मेहंदी में होने वाले पीएच एसिड सबसे ज्यादा नुकसानदेय होता है।

प्राकृतिक पत्तों से बनी मेहंदी का ही करें इस्तेमाल
इन दिनों बाजार में मिलने वाली मेहंदी को पहचानना काफी मुश्किल हो गया है। इसलिए आप कोशिश करें कि प्राकृतिक पत्तों से बनी मेहंदी का ही इस्तेमाल करें। ध्यान रखें कि मेहंदी लगाने के बाद अगर आपके शरीर के हिस्सों पर छाले पड़ जाएं या कोई अन्य नुकसान हो, तो उसे ठंडे पानी से धो लें। ऐसा करने के बाद उस पर नारियल का लेप लगा लें और उससे शरीर के उस हिस्से की अच्छी तरह से मालिश करें, जहां इस तरह की तकलीफ हो। एक और खास बात यह है कि मेहंदी लेते समय लोकल और सस्ती मेहंदी ना लें।

डॉक्टरों के मुताबिक मेहंदी लगााते समय यह पता नहीं चलता कि यह आपको कितना नुकसान पहुंचा रही है, लेकिन इससे होने वाले खतरे के बारे में आपको कुछ समय बाद पता चलता है। इससे आपको कैंसर जैसी घातक बीमारी हो  सकती है। हर्बल और नेचुरल मेहंदी पर भी पूरी तरह से भरोसा नहीं किया जा सकता। लेकिन सिंथेटिक मेहंदी इन सबसे जरा कम घातक होती है।

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*